• Hindi Sahitya Ka Vaigyanik Ithas : Vols. 1-2 by Ganpati Chandra Gupt in Hindi (हिन्दी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास)
  • Book Title: Hindi Sahitya Ka Vaigyanik Ithas : Vols. 1-2
  • Book Author: Ganpati Chandra Gupt
  • Publisher: Lokbharti Prakashan
  • Language: Hindi
  • Hardcover: 1008 pages
  • ISBN-10: 818031202X
  • हिन्दी-साहित्य के इतिहास-लेखन की दीर्घ-परम्परा में आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का कार्य उसका वह मध्यवर्ती प्रकाश-स्तम्भ है, जिसके समक्ष सभी पूर्ववर्ती प्रयास आभा-शून्य प्रतीत होते हैं । इस समय तक हिन्दी-साहित्य के इतिहास का जो ढाँचा, रूप-रेखा, काल-विभाजन एवं वर्गीकरण प्रचलित है, वह बहुत कुछ आचार्य शुक्ल के द्वारा ही प्रस्तुत एवं प्रतिष्ठित है । इतिहास-लेखन के अनन्तर हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में प्रर्याप्त अनुसंधान-कार्य हुआ है जिससे नयी सामग्री, नये तथ्य और नये निष्कर्ष प्रकाश में आये हैं जो आचार्य शुक्ल के वर्गीकरण-विश्लेषण आदि के सर्वथा प्रतिकूल पड़ते हैं । आचार्य शुक्ल एवं उनके अनुयायी वीरगाथा काल, भक्तिकाल एवं रीतिकाल-तीन अलग-अलग काल कहते हैं, वे एक ही काल के साथ-साथ बहनें वाली तीन धारायें हैं । इतिहास का सम्बन्ध अतीत की व्याख्या से है तथा प्रत्येक व्याख्या के मूल में व्याख्याता का दृष्टिकोण अनुस्युत रहता है । प्रस्तुत इतिहास में प्रयुक्त दृष्टिकोण को ' 'वैज्ञानिक दृष्टिकोण' ' की संज्ञा दी जा सकती है । इन दृष्टिकोण के अनुसार किसी पुष्ट सिद्धान्त या प्रतिष्ठित नियम के आधार पर वस्तु की तथ्यपरक, सर्वागीण एवं बौद्धिक व्याख्या सुस्पष्ट शैली में प्रस्तुत करने का प्रयास किया जाता है । अस्तु, दृष्टिकोण, आधारभूत सिद्धान्त, काल- विभाजन, नयी परम्पराओं के उद्‌घाटन तथा उर्दा- स्रोतों व प्रवृत्तियों की व्याख्या की दृष्टि से इस इतिहास में शताधिक नये निष्कर्ष प्रस्तुत हुए हैं ।
Book Details
Author Ganpati Chandra Gupt
Language Hindi

Write a review

Please login or register to review

Hindi Sahitya Ka Vaigyanik Ithas : Vols. 1-2 by Ganpati Chandra Gupt in Hindi (हिन्दी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास)

  • Brand: Lokbharti Prakashan
  • Product Code: Hindi Sahitya Ka Vaigyanik Ithas by Ganpati Chandra Gupt
  • Availability: In Stock
  • ₹1,340.00